इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

रविवार, 24 जुलाई 2011

अनचाही दरार-1

पिछली ऋतू में मैं सूखा था,
अबकी ऋतू न आई
अगली ऋतू के इंतज़ार में ,
आँखे भर भर आई.........

2 टिप्‍पणियां: