इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

शुक्रवार, 13 मई 2011

Chaahat

कल जब सुबह होगी,
फिर उठूँगा
कुछ नया करुगा 
पर ये तो मैंने कल भी सोचा था
और शायद कल भी सोचूंगा ,
स्खलित नहीं हुई है रूह मेरी 
गहरा समंदरहै उतरने को अभी,
पर ये तो मैंने कल भी सोचा था
और शायद कल भी सोचूंगा,
कब तृप्ति मिलेगी ?
कब तृष्णा बुझेगी ?
कब कब्र होगी "बस एक और " की तमन्ना ?
पर ये तो मैंने कल भी सोचा था
और शायद कल भी सोचूंगा,

3 टिप्‍पणियां:

  1. bahut hi shandar kavita hai sir... badhai ho ... aap ubharate hue rachanakar hai.

    उत्तर देंहटाएं
  2. aakhir maine tumhe dhundh liya..kitni shandar rachna hai..dil ko choone wali..keep it up

    उत्तर देंहटाएं
  3. "ये तो मैंने कल भी सोचा था
    और शायद कल भी सोचूंगा"

    इंसानी फिदरत की बहुत कम शब्दों में सटीक प्रस्तुति

    "कब कब्र होगी 'बस एक और' की तमन्ना?"
    - शायद कभी नहीं

    उत्तर देंहटाएं